अब देश के लिए खेलेगा किराना दुकानदार का बेटा, आर्थिक तंगी के बावजूद सिद्धार्थ यादव ने पूरा किया पिता का सपना | Gawin Sports

अब देश के लिए खेलेगा किराना दुकानदार का बेटा, आर्थिक तंगी के बावजूद सिद्धार्थ यादव ने पूरा किया पिता का सपना

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद स्थित कोटगांव में एक छोटा सा जनरल प्रोविजन स्टोर रविवार शाम यानी 19 दिसंबर 2021 से सुर्खियों में है। हो भी क्यों ना। दुकानदार श्रवण यादव के बेटे सिद्धार्थ को देश का प्रतिनिधित्व करने के लिए चुना गया था। शीर्ष क्रम का यह बल्लेबाज आगामी एशिया कप के लिए भारत की अंडर-19 टीम का हिस्सा है। इसके बाद जनवरी में विश्व कप होगा। श्रवण यादव उत्साहित हैं, इसलिए उनके ग्राहक भी बहुत खुश हैं।

जैसा कि श्रवण अपने बेटे की यात्रा के बारे में बताते हैं। टेलीफोन पर बातचीत के दौरान थोड़ी-थोड़ी देर में आवाज आती है, ‘आपको भी बहुत मुबारक हो, आपको भी बधाई हो।’ दरअसल, पिता अपनी दुकान पर नियमित लोगों के साथ अभिवादन का आदान-प्रदान कर रहे होते हैं।

सिद्धार्थ की कहानी भारत के छोटे शहरों के उन लोगों से भिन्न नहीं है, जो शहर परंपरागत रूप से क्रिकेट प्रतिभा पैदा करने के लिए नहीं जाने जाते हैं। देश के विशाल और विविध भूगोल के खिलाड़ियों की टीम में उपस्थिति खेल के प्रसार और भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) की पहुंच की याद दिलाती है।

इन कहानियों में हिसार के विकेटकीपर बल्लेबाज दिनेश बाना, सहारनपुर के तेज गेंदबाज वासु वत्स और उस्मानाबाद के उनके नए जोड़ीदार राजवर्धन हंगारगेकर भी शामिल हैं। टीम में से कुछ के पास स्पोर्टिंग डीएनए (उनका परिवार पहले से ही खेल से जुड़ा) है।

दिल्ली में जन्में मुंबई के बल्लेबाज अंगक्रिश रघुवंशी के पिता अवनीश ने भारत के लिए टेनिस खेला और मां मलिका ने वॉलीबॉल में देश का प्रतिनिधित्व किया। बल्लेबाज हरनूर सिंह के पिता बीरेंदर सिंह पंजाब के अंडर-19 क्रिकेटर थे। ऑलराउंडर राज अंगद बावा के पिता सुखविंदर चंडीगढ़ में एक प्रतिष्ठित कोच हैं। हालांकि, टीम का कोर पहली पीढ़ी के क्रिकेटर्स द्वारा बनाया गया है।

इसकी शुरुआत कप्तान यश ढुल करते हैं। उनका परिवार कभी भी खेल के प्रति गंभीर नहीं था। यह उनके दिवंगत दादा जगत सिंह का ही समर्थन था कि ढुल आज यहां तक पहुंच पाए। जगत सिंह सेना से रिटायर थे। बल्लेबाज कौशल तांबे के पिता महाराष्ट्र में सहायक पुलिस आयुक्त हैं, और बंगाल के तेज गेंदबाज रविकुमार के पिता सीआरपीएफ में सहायक उप-निरीक्षक हैं।

दुकानदार श्रवण यादव के क्रिकेट की पहचान गाजियाबाद में भारत के पूर्व क्रिकेटर मनोज प्रभाकर को नेट्स में गेंदबाजी करने तक सीमित है, लेकिन खेल के लिए उनका जुनून असीमित है और यह उनके बेटे को विरासत में मिला है।

श्रवण कहते हैं, ‘जब वह (सिद्धार्थ) छोटा था, तो उसे एक दिन क्रिकेट खेलते देखना मेरा सपना था। जब उसने पहली बार बल्ला पकड़ा तो वह बाएं हाथ में लिए हुए था। मेरी मां ने कहा, ‘ये कैसा उल्टा खड़ा हो गया है (वह गलत तरीके से क्यों खड़ा है? मैंने कहा कि वह ऐसे ही खेलेगा। वह तब से बाएं हाथ का बल्लेबाज है।’

उन्होंने बताया, ‘एक गंभीर क्रिकेटर के तौर पर सिद्धार्थ का सफर आठ साल की उम्र में शुरू हो गया था।’ सिद्धार्थ के लिए अपने पिता के सपने को पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत और त्याग की आवश्यकता थी। श्रवण हर दोपहर अपने बेटे को पास के मैदान में ले जाते और थ्रोडाउन कराते। वह उसे बताते कि कैसे सीधे बल्ले से खेलना है।

श्रवण याद करते हुए कहते हैं, ‘मैंने सुनिश्चित किया कि उसे लगभग तीन घंटे तक ऐसा ही करना है। इसके लिए मैं दोपहर 2 बजे अपनी दुकान बंद कर देता और हम 6 बजे तक मैदान में ही रहते। फिर मैं दुकान पर वापस चला जाता।’

सिद्धार्थ ने बताया, ‘मैं रात के 10.30 बजे तक खाना खा लेता और फिर जब मैं बिस्तर पर लेटता तो मुझे होश ही नहीं रहता था। परिवार में हर कोई सपोर्टिव नहीं था।’ सिद्धार्थ की दादी चाहती थीं कि वह पढ़ाई पर ध्यान दें।

सिद्धार्थ ने बताया, ‘उन्हें लगता था कि यह जुएं जैसा है। अगर कुछ नहीं हुआ, तो जिंदगी खराब हो जाएगी, आवारा हो जाएगा (मैं अपना जीवन बर्बाद कर देगा, मैं बदमाश बन जाऊंगा), लेकिन मेरे पिता दृढ़ थे। यह उनका सपना था जिसे मुझे पूरा करना था।’

सिद्धार्थ की प्रगति उनके जीवन में दो अजयों के प्रवेश के साथ तेज हुई। एक अंडर-19 क्रिकेटर आराध्य यादव के पिता अजय यादव और दूसरे भारत के पूर्व क्रिकेटर अजय शर्मा, जो उनके कोच बने। अंडर-16 ट्रायल के दौरान सिद्धार्थ के पिता ने अजय यादव से सिद्धार्थ के लिए अच्छा कोच खोजने का आग्रह किया था।

सिद्धार्थ को उत्तर प्रदेश की अंडर-16 टीम में चुना गया था। वह उस सीजन में राज्य के लिए एक दोहरा शतक और पांच शतक के साथ सर्वोच्च स्कोरर बने। फिर उन्हें जोनल क्रिकेट अकादमी के लिए चुना गया बाद में बेंगलुरु में राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी में चले गए।

कोविड-19 महामारी के बाद, बीसीसीआई ने वेस्टइंडीज में आगामी विश्व कप को ध्यान में रखते हुए अंडर-19 चैलेंजर ट्रॉफी के लिए टीमों का चयन किया। सिद्धार्थ चैलेंजर्स में एक शतक और तीन अर्द्धशतक बनाकर दूसरे सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी बने। उन्हें बांग्लादेश और दो भारतीय टीमों वाली अंडर-19 ट्राई सीरीज के लिए चुना गया था, जहां उन्होंने 3 मैच खेले और एक बार 43 रन बनाकर नाबाद रहे।

सिद्धार्थ के लिए कॉल-अप सफर की शुरुआत भर है। वह एक साधारण लड़के हैं, जो ज्यादा बाहर निकलना पसंद नहीं करता और अपने कई दोस्तों की तरह गैजेट्स या फिल्मों पर टिप्पणी नहीं करना चाहता।

सिद्धार्थ ने कहा, ‘आर्थिक रूप से, हमेशा एक संकट था, लेकिन मैं अपने परिवार से इसके बारे में कभी नहीं पूछना चाहता था। मेरे साथी सिनेमा देखने जाते थे या कुछ खरीदारी करते थे लेकिन मैं उनके साथ कभी नहीं गया। मुझे इधर-उधर घूमना या बेवजह खर्च करना पसंद नहीं है।’

पिता श्रवण को सिद्धार्थ की सफलता की भविष्यवाणी करने वालों की याद आती है। श्रवण बताते हैं, ‘मुझे अब उन रणजी खिलाड़ियों के नाम याद नहीं हैं, लेकिन वे मुझसे कहते थे- भाई, इसे काला धागा बांध दो, ये लड़का इंडिया खेलेगा। उनकी आवाजें मेरे कानों में गूंज रही हैं।’

The post अब देश के लिए खेलेगा किराना दुकानदार का बेटा, आर्थिक तंगी के बावजूद सिद्धार्थ यादव ने पूरा किया पिता का सपना appeared first on Jansatta.



https://ift.tt/eA8V8J Buy Cricket Accessories Online From Gawin Sports, Jalandhar Punjab M- 7696890000

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने