हरमनप्रीत कौर को चौके-छक्के मारते देख अंपायर चेक करने लगे थे बैट, भारतीय क्रिकेटर को सताया था देश लौटने पर डंडे पड़ने का डर | Gawin Sports

हरमनप्रीत कौर को चौके-छक्के मारते देख अंपायर चेक करने लगे थे बैट, भारतीय क्रिकेटर को सताया था देश लौटने पर डंडे पड़ने का डर

भारतीय महिला टी20 क्रिकेट टीम की कप्तान हरमनप्रीत कौर गेंदबाजों की धुनाई करने के लिए जानी जाती हैं। वह महिला टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच में शतक लगाने वाली पहली क्रिकेटर हैं। वह 100 टी20 इंटरनेशनल मैच खेलने वाली पहली भारतीय क्रिकेटर (पुरुष और महिला) हैं। वह ऑस्ट्रेलिया की वुमन्स बिग बैश लीग में भी खेलती हैं।

हरमनप्रीत के बारे में कहा जाता है कि क्रीज पर उतरने के बाद वह करीब 8-10 गेंदों तक धीमा खेलती हैं। इसके बाद खुलकर हाथ दिखाने लगती हैं। हालांकि, एक बार उन्होंने अपनी प्रकृति से विपरीत ऐसा किया। वह मैदान पर उतरते ही चौके-छक्के जड़ने लगीं। ऐसा देख अन्य खिलाड़ियों को तो छोड़िए अंपायर तक को भरोसा नहीं हुआ।

अंपायर हरमनप्रीत कौर का बैट चेक करने लगा था। यह बात हरमनप्रीत ने ओकट्री स्पोर्ट्स (Oaktree Sports) के यूट्यूब (YouTube) शो ब्रेकफॉस्ट विद चैंपियंस (| Breakfast with Champions Season) के सीजन 6 में बताई थी।

शो के दौरान एंकर गौरव कपूर ने हरमनप्रीत कौर से पूछा, ‘ये जो लंबे छक्के मारने की आदत है, इसके पीछे की ताकत का राज क्या है?’ हरमनप्रीत कौर ने कहा, ‘जब मैंने पापा को खेलते हुए देखा तो उनका गेम भी छक्के वाला ही था। वह भी रुककर नहीं खेलते थे। तो मेरे दिमाग में वही बैठा हुआ है। मैं रुककर खेल ही नहीं पाती।’ एंकर ने पूछा, ‘एक बार इन लंबे छक्कों की वजह से आपके बैट की टेस्टिंग हुई थी?’

हरमनप्रीत कौर ने कहा, ‘एक बार मैंने सोचा मैच में कुछ नया करना है। मैंने सोचा कि आज पहली बॉल से ही शुरू कर देना है। देखा जाएगा, आउट तो आउट, गया तो गया। मैंने पहली बॉल पर मार दिया, तो वह चौका गया। तब किसी ने इतना ध्यान नहीं दिया। लेकिन जब मैंने छक्का मारा तो अंपायर मेरे सामने आकर खड़े हो गए।’

आठ मार्च 1989 को पंजाब के मोगा में जन्मीं हरमनप्रीत ने बताया, ‘वह मेरा बैट चेक करने लगे। मैंने पूछा क्या हो गया सर। उन्होंने कहा कि बैट चेक कर रहा हूं। उन्होंने कहा कि जस्ट मिस। मैंने सोचा, शुक्र है भगवान का। कहीं ये मेरा मैच बैट ही छीन लेते अभी।’

भारतीय महिला क्रिकेट टीम दो बार वनडे वर्ल्ड कप के फाइनल (2005 और 2017) में भी पहुंच चुकी है। साल 2017 में जब भारतीय टीम ने वर्ल्ड कप का फाइनल खेला था, तब हरमनप्रीत कौर भी उस मैच का हिस्सा थीं।

उस मैच को लेकर हरमनप्रीत कौर ने कहा, ‘पहली बार हम लोग पूरे पैक स्टेडियम में खेल रहे थे। हारे थे तो हम तो उसी मतलब, उसी सोच से चल रहे थे कि यार इतना अच्छा बना हुआ मैच हार गए। अब वापस जाकर क्या होगा, क्योंकि इससे पहले तो हम पुरुष क्रिकेट देखा था। जब वे हार जाते हैं तो उनके लौटने पर आपको पता ही है भारत में कैसा माहौल होता है।’

हरमनप्रीत कौर ने कहा, ‘डंडे पड़ रहे होते हैं। तो ऐसा लग रहा था कि कहीं कुछ ऐसा न हो जाए, कि वापस जाएं और लोग बोले जीता हुआ मैच हार के वापस आए हो तुम लोग, लेकिन ऐसा नहीं हुआ और हमारी परफॉर्मेंस की तारीफ हुई। हमें खुशी है कि लोगों ने हमें समझा।’

The post हरमनप्रीत कौर को चौके-छक्के मारते देख अंपायर चेक करने लगे थे बैट, भारतीय क्रिकेटर को सताया था देश लौटने पर डंडे पड़ने का डर appeared first on Jansatta.



https://ift.tt/eA8V8J Buy Cricket Accessories Online From Gawin Sports, Jalandhar Punjab M- 7696890000

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने